वेद विज्ञान

वेद केवल धर्म नहीं बल्कि जीवन की सच्ची राह है

497 Posts

679 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6000 postid : 31

सूर्य राशि का राशिफल

Posted On: 19 Jul, 2011 ज्योतिष में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पृथ्वी की भौगोलिक दशा के अनुसार इसका विविध भू भाग विविध ग्रहों के निकट एवं दूर पड़ता है. धरती का जो भाग जिस ग्रह के निकट पड़ता है. वह भाग उस ग्रह की किरणों के प्रभाव में ज्यादा पड़ता है. जैसे विषुवत रेखीय देश या भूखंड अपनी उठी हुई या उत्तल स्थिति के कारण सूर्य के निकट वर्ती होते है. अफ्रिका महाद्वीप का उत्तरी हिस्सा तथा यूरोप एवं सोवियत संघ का मध्यवर्ती तथा उत्तरी एवं दक्षिणी अमेरिका के बीच का भूभाग सूर्य ग्रह के निकट पड़ते है. इस लिए इन पर सूर्य ग्रह का प्रभाव ज्यादा होता है. जिस ग्रह का प्रभाव जिस देश, राज्य या भूभाग पर ज्यादा होता है. वहां वही राशि अपना राशिफल देती है.
पश्चिम के देशो में सूर्य राशि ही ज्यादा प्रचलित है. यूनान एवं मिश्र आदि देशो में शुक्र राशि से राशिफल देखा जाता है. चीन जापान आदि देशो में मंगल राशि प्रचलित है. इसी प्रकार एशिया महाद्वीप में चन्द्र राशि प्रभावी होती है. आस्ट्रेलिया महाद्वीप में राशिफल वृहस्पति से देखा जाता है. किन्तु न्यूजीलैंड के हिस्से में बुध राशिफल प्रचलित है.
अब बात भारत की आती है. सम्पूर्ण भारत उपमहाद्वीप चन्द्रमा का निकटवर्ती है. इसलिए यहाँ पर चन्द्र राशि ही प्रभावी एवं सत्य फल देने वाली होगी. किन्तु बहुत ही अफ़सोस की बात है कि हम पाश्चात्य सभ्यता एवं संस्कृति के अनुकरण में अपनी समृद्ध वैदिक संपदा को तिरस्कृत एवं विस्मृत करते जा रहे है. तथा उसके ठोस, पूर्ण, तार्किक एवं सर्वथा वैज्ञानिक लाभ से वंचित होते जा रहे है.
गागर में सागर भरने वाले महान ज्योतिषाचार्य वराह मिहिर ने अपनी कृति वृहत्संहिता के “कूर्म प्रकरण” नामक चौदहवें अध्याय के श्लोक संख्या 5, 6 एवं 7 में इसका बिल्कुल स्पष्ट वर्णन किया है. उदाहरण के लिए देखते है-
“अथ पूर्वस्यामंजनवृषभध्वजपद्ममाल्यवदगिरयः. व्याघ्रमुखसुह्मकर्वटचान्द्रपुराः शूर्प कर्णाश्च.
ख्रसमगधशिबिरगिरीमिथिलसमतटोंड्राश्ववदनदंतुरकः. प्रागज्योतिषलौहित्यक्षीरोद समुद्र पुरुषादाः. उदयगिरिभद्रगौडक पौन्ड्रोत्कलकाशिमेकलाम्बाष्ठाः. एक पद ताम्र लिपटक कोशलका वर्धमानश्च.
अर्थात अन्जन्गिरी, वृषभाध्वज गिरि, पद्मगिरि, माल्यवान पर्वत, व्याघ्रमुख, सुह्म, कर्कट, चन्द्रपुर, शूर्पकर्ण देश, खास, मगध, शिविरपर्वत, मिथिला, समतट, उड्र, अश्ववदन, दंतुरक, प्रागज्योतिष, लोहित्य, पुरुषाद प्रदेश, उदयगिरि, भद्र, गौड़देश, पौन्द्र, उत्कल, काशी, मेकल, अम्बष्ठ, एकपद, ताम्रलिप्तक, कोशल एवं वर्धमान प्रदेश आर्द्रा, पुनर्वसु एवं पुष्य नक्षत्र के वर्गों में पड़ते है.
फिर जब ज्योतिष के मूल भूत सिद्धांत ही इस बात को दृढ़ता पूर्वक बताते है. तो हम क्यों किसी जगह का राशिफल किसी और राशि के तहत देखते या करते है? ऊपर के श्लोक से यह स्पष्ट है कि जो देश या स्थान ऊपर के श्लोक में बताये गए है उन्हें मिथुन राशि (आर्द्रा, पुनर्वसु एवं पुष्य) के तहत ही फलादेश करना चाहिए.
वर्त मान समय में जन्म के माह एवं तारीख से राशिफल देखने की परम्परा चल पडी है. जैसे 25 मई से २६ जून के बीच जन्म लेने वाले मिथुन राशि के तहत राशिफल देखते है. कारण यह कि इन दिनों में सूर्य मिथुन राशि पर रहता है. लेकिन यहाँ यह बताना आवश्यक है कि यह राशिफल विषुवत रेखीय प्रान्तों के लिए ही मान्य है. एशिया महाद्वीप के देशो के लिए नहीं.
स्थान परिवर्तन से ग्रहों के परिणाम में बदलाव आता है. आदमी जिस जगह रहता है. वह वही के ग्रह अथवा राशि के प्रभाव में रहता है. यही कारण है कि प्राचीन काल में जब कोई भी व्यक्ति किसी ग्रह पीड़ा से पीड़ित होता था. तो वह किसी विद्वान् पंडित, ऋषि या ज्योतिषी के पास जाता था. तो वह विद्वान् पुरुष उस पीड़ित व्यक्ति को किसी तीर्थ स्थान में भेज देता था. या फिर उसे 27 नदियों का जल एवं 27 जगह की मिट्टी लाने को कहता था. उन दिनों लोग पैदल ही चला करते थे. वह व्यक्ति सामान लाने के लिए अपना निवास स्थान छोड़ कर दूर दराज के देशो से विविध नदियों का जल एवं मिट्टी लाने में महीनो लगा देता था. इस प्रकार वह अपने निवास स्थान से बहुत दिनों तक दूर रहता था. जगह छोड़ देने से वह अपने कष्ट कारी ग्रह के प्रभाव से बहुत दिनों तक दूर रहता था. तथा उसका कष्ट दूर हो जाता था.
इन सारे उदाहरण तथा विविध ग्रंथो के उद्धरण से यह स्पष्ट है कि ह़र एक राशिफल ह़र जगह के लिए वैध या लागू नहीं है.
द्वारा-
Pandit R . K . Rai
9086107111, 9889649352

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

snsharmaji के द्वारा
September 5, 2012

 यदि उपरोक्त लेख लिखने सेपहले आप ऐसटरोनोमी पढते  तोअच्छा होता आप अपने तर्को को खुद नही काटते ज्योतिषी झूठ बोल धक्के खिलाते थे चन्द्र भारतका निकटवर्ती है दूसरे महाद्वीपो का  नही जबकि शशि धरती काचक्र काटता है धरती भी घूमती है जब पैरिजी होता है तो किसी भी महाद्वीप का नजदीकी हो सकता है फिर देस काल पात्र को फल का आधार माना गया है फिर तो भिखारी भिखारीहीरहेगा चाहे कैसे भीग्रह हों   यही बाते लोगो को उंगली उठाने का मौका देती  हैं 

    September 5, 2012

    जब हमारे स्वदेशीय ग्रन्थ ऐसे अक्षुण ज्ञान से भरे पड़े है जिसका अनुकरण कर आज विदेश विकशित देशो की श्रेणी में स्थान पा रहा है और हम इसकी उपेक्षा कर अभी भी विकाश शील ही है, तो फिर मै ऐसे संपन्न ज्ञानोदधि Astrology को छोड़ कर Astronomy जैसे एकांगी सिद्धांत का अध्ययन क्यों करूँ? सूरदास प्रभु काम धेनु तजि छेरी कौन दुहावे. जिसे अपने धर्म ग्रंथो पर भरोसा नहीं उसे सही तथ्यों का ज्ञान एवं उपलब्धि हो ही नहीं सकती, यह मेरा मानना है. भिखारी भिखारी ही बना रहेगा यदि उद्योग न करे. मरीज रोगी ही बना रहेगा यदि चिकित्सा न करे. ग्रह गोल आधारित ज्योतिषीय गणनाएं रोग, भय, लाभ एवं हानि को चिन्हित कर उसका कारण बताती है. और प्रभावित को उसके अनुकूल आचरण करना पड़ता है. और तभी भिखारी राजा एवं राजा भिखारी बनता है. इसी तथ्य को समझे बिना ज्योतिषी लोग इस पर ऊंगली उठाने का मौक़ा देते है. आप के कुछ एक संशय स्पष्ट नहीं है. जैसे “पेरीजी, चन्द्र का महाद्वीप सम्बन्ध आदि”. इसलिए उनके सम्बन्ध में मै कुछ नहीं कह पा रहा हूँ. धन्यवाद

snsharmaji के द्वारा
September 5, 2012

अच्छा होता यदि उपरोक्त लेख लिखने सेपहले आप ऐसटरोनोमी पढते  तो आप अपने तर्को को खुद नही काटते

shaktisingh के द्वारा
July 20, 2011

रमेश जी आपके द्वारा हमें एक अनोखी सूचना जानने को मिली धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran