वेद विज्ञान

वेद केवल धर्म नहीं बल्कि जीवन की सच्ची राह है

499 Posts

681 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6000 postid : 698217

भगवान ने आँख दिया हम उसे फोड़ रहे है.

Posted On: 3 Feb, 2014 ज्योतिष में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भगवान ने आँख दिया हम उसे फोड़ रहे है.
भगवान ने केवल रात ही नहीं दी है. बल्कि दिन भी बनाया है. रोग ही नहीं औषधियाँ भी उत्पन्न की है. दुष्ट ही नहीं साधु भी दिये है. बस अपनी बुद्धि, ज्ञान और विचार की कमी को दुर्भाग्य कह कर अन्धा दिन की रोशनी में भी कुछ नहीं देख सकता है. जब कि एक उल्लू रात के अँधेरे में भी देख लेता है. ऊसर और बंजर ही नहीं बल्कि उपजाऊ जमीन भी दी है. एक कक्षा में प्रत्येक छात्र परीक्षा में अनुत्तीर्ण ही नहीं बल्कि प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण भी होता है.
ऐसी बात नहीं है कि कोई भी काम असम्भव है। सिर्फ असम्भव (अस् + भव अर्थात भव में अस्तित्व का स्थाई रहना) ही असम्भव है. भव से अलग का अस्तित्व अर्थात प्रकृष्ट जीव या दूसरे शब्दो में भगवान भी असम्भव नहीं है. यही कारण है कि कहा गया है कि =====
“भगवान भगत के वश में”====
बस भगत बनिये और भगवान को वश में कीजिये।
ऐसे ही अपने दुखो को जानने के लिये विविध तार्किक, ठोस पृष्ठ भूमि पर आधारित, प्रामाणिक एवं प्रकृति के विविध प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप, प्रभाव एवं गुण को प्रस्तुत करने वाले ज्योतिष नाम के महाविज्ञान को ईश्वर द्वारा प्रदत्त करते हुए हमें उनके निवारण हेतु अथर्व (अथ+वः अर्थात हमारा आरम्भ या पुनर्जागरणं या आविर्भाव क्योकि अथ का तातपर्य आरम्भ एवं इति का अर्थ समाप्त होना तथा वः का अर्थ हम होता है) वेद प्रदान किया है. यजुर्वेद एवं आयुर्वेद दिया है.
तार्किक, प्रामाणिक एवं विश्वसनीय तथ्यो को अपनायें। और भ्रामक, जिसका कोई आधार नहीं, प्रमाण नहीं, तर्क नहीं ऐसे तथ्यो को उपेक्षित करें अन्यथा इससे केवल आप का ही नुकसान नहीं होगा बल्कि प्रकृति, ईश्वर एवं वेदिक अस्तित्व का अपमान एवं उत्खनन होगा।
पण्डित आर के राय
Email- khojiduniya@gmail.com

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yatindranathchaturvedi के द्वारा
February 7, 2014

अनूठा,सादर


topic of the week



latest from jagran