वेद विज्ञान

वेद केवल धर्म नहीं बल्कि जीवन की सच्ची राह है

499 Posts

681 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6000 postid : 762195

कम्प्यूटर एवं अनपढ़ ढोंगी ज्योतिषाचार्य

Posted On: 9 Jul, 2014 ज्योतिष में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कम्प्यूटर एवं अनपढ़ ढोंगी ज्योतिषाचार्य
अनेक लोगो से मुझे सूचना मिली है कि बड़े बड़े उद्भट्ट एवं प्रकाण्ड ज्योतिषाचार्य कहते है कि सन्ध्यादशा, पाचकदशा आदि कोई दशा ज्योतिष में नहीं होती।
मैं और सब आचार्यो- श्रीपति, नीलकण्ठ, भाष्करभट्ट, रामानुजाचार्य, देवल, गर्ग, वराह एवं वशिष्ठ आदि का उल्लेख न कर जिस आचार्य का नाम बेचकर आज अनेक उदर भरणपोषण रत तथाकथित ज्योतिषाचार्यो की दुकान चल रही है उसी ज्योतिष्पितामह महर्षि पाराशर का उल्लेख करना चाहूँगा—-
वृहत्पाराशर होराशास्त्र के दशाभेदाध्याय के 47वें अध्याय के श्लोक संख्या 204 को देखें–
“परायुषो द्वादशांशस्तत्सन्ध्या सद्भिरीरिता।
दशानां तन्मिताब्दाः स्युर्लग्नराशिक्रमान्मता।।”
अर्थात परमायु (120) का द्वादशांश (10) वर्ष आयुर्दाय की संध्या होती है जो भाव के फल का समय बताती है. लग्नादि क्रम से प्रत्येक राशि की दशा संध्यादशा कहलाती है. जिसे गणित करके स्पष्ट किया जाता है.
——–इसी अध्याय का श्लोक संख्या 206 देखें–
“त्रिभागं वसुकोष्ठेषु लिखित्वा तत्फलं दिशेत्।
एवं द्वादशभागेषु पाचकानि प्रकल्पयेत्।।”
संक्षेप में संध्यादशा में भावो की अन्तर्दशा को पाचकदशा कहते है.
======ऐसे ज्योतिषाचार्यो को इस पाराशरी गणित में क्यों उलझना? सीधे कह देना अच्छा है कि ऐसी कोई दशा नहीं होती। नहीं तो गणित पढ़ना पडेगा। और यदि गणित ही पढ़ना होता तो क्या कही नौकरी नहीं मिलती जो दुकान खोलनी पड़ी है?
कम्प्यूटर के सॉफ्टवेयर में कुण्डली का डाटा भरवाने वाले भी तो ऐसे ही पंडित रहे होगें। तो जिन्हें स्वयं ही नहीं पता कि पाचकदशा क्या होती है वह सॉफ्टवेयर इंजिनियर को क्या बतायेगा? और इसमें सॉफ्टवेयर इंजिनियर या प्रोग्रामर की क्या गलती? जो डेटा पण्डित ने बताया सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर ने उसकी प्रोग्रामिंग करके सॉफ्टवेयर तैयार कर दिया। और बस कम्प्यूटर कुंडली तैयार। एक मिनट में कुण्डली पाइये। और आजकल इसी कुण्डली का प्रचलन, प्रचार प्रसार एवं महत्ता है.
आप स्वयं देखें, किसी भी कुंडली के सॉफ्टवेयर में छायादशा, संध्यादशा, पाचकदशा, तारादशा, शूलदशा आदि का विवरण नहीं मिलेगा।
करणदशा, सारंगदशा तथा व्योमा दशाओं का तो खैर कभी सॉफ्टवेयर बन ही नहीं सकता। क्योकि इसमें पहले आकाश में निर्धारित ग्रहनक्षत्र को प्रत्यक्ष देखकर सिद्धांत से मिलाते है. और दोनों में अंतर होने पर गणित कार के इसे प्रत्यक्ष के समतुल्य बनाते है.
===अब आप स्वयं सोचें, कम्प्यूटर का सॉफ्टवेयर बाहर निकलकर आकाश में झाँक कर देखेगा क्या कि गणित के अनुसार ग्रह का उत्तरी शर पूरब में होना चाहिये फिर यह उत्तर क्यों है?
इसे ही सिद्धांत एवं संहिता आदि ग्रंथो में दिग्गणित के नाम से जाना गया है.
====कुंडली सॉफ्टवेयर अच्छे गणितज्ञ ज्योतिषाचार्यो को निठल्ला, आलसी एवं निरुपयोगी बनाने का माध्यम एवं ढोलकपोल ढिंढोरा पीटने वाले पाखण्डी ज्योतिषाचार्यो के लिये वरदान स्वरुप है.
पण्डित आर के राय
Email- khojiduniya@gmail.com

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

July 16, 2014

किसी एक विद्वान जैसा प्रतीत होने वाले महाशय की टिप्पड़ी मेरे इस ब्लॉग पर आई है. किन्तु दिखाई नहीं दे रही है. कोई तकनीकी कारण हो सकता है. उन्होंने मुझे आदेश दिया है कि भ्रमित न करें। यदि ज्ञान है तो उसे स्पष्ट करें। —-मुझे सिर्फ इतना ही कहना है कि भ्रमित उसे किया जाता है जो पहले ठीक ठाक हो. भ्रमित न हो. जो शुरू से भ्रम में ही पला बढ़ा हो उसे क्या भ्रमित करना? —–तो भ्रमित महाशय आप के लिये कोई बाध्यता तो है नहीं जो मेरे ब्लॉग पढ़ें। आप भूलकर भी मेरे ब्लॉग न पढ़ें। —-मैं अपनी मर्जी, अपनी इच्छा और अपने निर्णय से प्रेरित होकर ब्लॉग लिखता हूँ. जिसे सही, उचित और उपयोगी लगे वह पढ़े अन्यथा आगे बढे. —-वैसे जिस आँख को कभी रोशनी मयस्सर न हुई हो उसकी आँख कभी तेज रोशनी बर्दाश्त नहीं कर सकती।

sanjay kumar garg के द्वारा
July 11, 2014

सुन्दर सतर्क विश्लेषण के लिए आभार! आदरणीय पंडित जी!


topic of the week



latest from jagran